Rich Dad Poor Dad Robert T Kiyosaki quotes page -1 - Motivational quotes for success in life

Breaking

Comments system

Friday, 28 February 2020

Rich Dad Poor Dad Robert T Kiyosaki quotes page -1

Read  Book- Rich Dad Poor Dad Robert T Kiyosaki - Page 1
Book - Rich Dad Poor Dad Robert T Kiyosaki page -1 lono.me
Lono me 

प्रस्तावना

इसकी बहुत ज़रूरत है

क्या स्कूल बच्चों को असली जिंदगी के लिए
तैयार करता है ?
 मेरे मम्मी - डेडी कहते थे , " मेहनत से पढ़ो और अच्छे नंबर लाओ क्योंकि करोगे तो एक अच्छी तनख्वाह वाली नौकरी मिल जाएगी । " उनके जीवन का लक्ष्य यही था कि मेरी बड़ी बहन और मेरी कॉलेज की शिक्षा पूरी हो जाए । उनका मानना था कि अगर कॉलेज की शिक्षा पूरी हो गई तो हम जिंदगी में ज्यादा कामयाब हो सकेंगे । जब मैंने 1976 में अपना डिप्लोमा हासिल किया - में फ्लोरिडा स्टेट युनिवर्सिटी में अकाउंटिंग में ऑनर्स के साथ ग्रेजुएट हुई और अपनी कक्षा में काफ़ी ऊँचे स्थान पर रही - तो मेरे मम्मी - डैडी का लक्ष्य पूरा हो गया था । यह उनकी जिंदगी की सबसे बड़ी उपलब्धि थी ।

 " मास्टर प्लान " के हिसाब से , मुझे एक " बिग 8 " अकाउंटिंग फर्म में नौकरी भी मिल गई । अब मुझे उम्मीद थी एक लंबे करियर और कम उम्र में रिटायरमेंट की । मेरे पति माइकल भी इसी रास्ते पर चले थे । हम दोनों ही बहुत मेहनती परिवारों से आए थे जो बहुत अमीर नहीं थे । माइकल ने ऑनर्स के साथ ग्रेजुएशन किया था , एक बार नहीं बल्कि दो बार - पहली बार इंजीनियर के रूप में और फिर लॉ स्कूल से । उन्हें जल्दी ही पेटेंट लॉ में विशेषज्ञता रखने वाली वॉशिंगटन , डी . सी . की एक मानी हुई लॉ फर्म में नौकरी मिल गई । और इस तरह उनका भविष्य भी सुनहरा लग रहा था । उनके करियर का नक्शा साफ़ था और यह बात तय थी कि वह भी जल्दी रिटायर हो सकते थे ।

हालांकि हम दोनों ही अपने करियर में सफल रहे , परंतु हम जो सोचते थे , हमारे साथ ठीक वैसा ही नहीं हुआ । हमने कई बार नौकरियाँ बदली - हालाँकि हर बार नौकरी बदलने के कारण सही थे - परंतु हमारे लिए किसी ने भी पेंशन योजना में निवेश नहीं किया । हमारे रिटायरमेंट फंड हमारे खुद के लगाए पैसों से ही बढ़ रहे हैं । हमारी शादी बहुत सफल रही है और हमारे तीन बच्चे हैं । उनमें से दो कालेज में हैं और तीसरा अभी हाई स्कूल में गया ही है । हमने अपने बच्चों को सबसे अच्छी शिक्षा दिलाने में बहुत सा पैसा लगाया ।



1996 में एक दिन मेरा बेटा स्कूल से घर लोटा । स्कूल से उसका मोरया हो गया था । वह पढ़ाई से ऊब चुका था । " में उन विषयों को पढ़ने में इतना ज्यादा समय क्यों बर्वाद कसैजो असल जिंदगी में मेरे कभी काम नहीं आएँगे ? " उसने विरोध किया । बिना सोचे - विचारे ही मैंने जवाब दिया , " क्योंकि अगर तुम्हारे अच्छे नंबर नहीं आए तो तुम कभी कॉलेज नहीं जा पाओगे । " " चाहे मैं कॉलेज जाऊँ या न जाऊँ , " उसने जवाब दिया , " मैं अमीर बनकर दिखाऊँगा । " " अगर तुम कॉलेज से ग्रैजुएट नहीं हुए तो तुम्हें कोई अच्छी नौकरी नहीं मिलेगी , " मैंने एक माँ की तरह चिंतित और आतंकित होकर कहा । " बिना अच्छी नौकरी के तुम किस तरह अमीर बनने के सपने देख सकते हो ? " मेरे बेटे ने मुस्कराकर अपने सिर को बोरियत भरे अंदाज में हिलाया ।



 हम यह चर्चा पहले भी कई बार कर चुके थे । उसने अपने सिर को झुकाया और अपनी आँखें घुमाने लगा । मेरी समझदारी भरी सलाह एक बार फिर उसके कानों से भीतर नहीं गई थी । हालाँकि वह स्मार्ट और प्रबल इच्छाशक्ति वाला युवक था , परंतु वह नम्र और शालीन भी था । " मम्मी , " उसने बोलना शुरू किया और भाषण सुनने की बारी अब मेरी थी । " समय के साथ चलिए । अपने चारों तरफ देखिए । सबसे अमीर लोग अपनी । शिक्षा के कारण इतने अमीर नहीं बने हैं । माइकल जॉर्डन और मैडोना को देखिए । यहाँ तक कि बीच में ही हार्वई छोड़ देने वाले बिल गेट्स ने माइक्रोसॉफ्ट कायम किया । आज वे अमेरिका के सबसे अमीर व्यक्ति हैं और अभी उनकी उन भी तीस से चालीस के बीच ही है ।

और
उस बेसबॉल पिचर के बारे में तो आपने सुना ही होगा जो हर साल चालीस लाख डॉलर से ज़्यादा कमाता है जबकि उस पर ' दिमागी तौर पर कमज़ोर " होने का लेबल लगा हुआ है । हम दोनों काफी समय तक चुप रहे । अब मझे यह समझ में आने लगा था कि मैं अपने बच्चे को यही सलाह दे रही थी जो मेरे माता - पिता ने मुझ दी थी । हमारे चारों तरफ की दुनिया बदल रही थी . परंत हमारी सलाह नहीं बदली थी । अच्छी शिक्षा और अच्छे ग्रेड हासिल करना अब सफलता की गारंटी नहा रह गए थे और हमारे बच्चों के अलावा यह बात किसी की समझ में नहा आई थी । " मम्मी , " उसने आगे कहा , " मेडी और आपकी तरह कड़ी मेहनत नहा करना चाहता । आपको काफी पैसा मिलता है और हम एक शानदार मकान में रहते हैं जिसमें बहुत से कीमती सामान हैं ।


अगर मैं आपकी सलाह मानूंगा तो मेरा हाल भी आपकी ही तरह होगा । मझे भी ज्यादा मेहनत करनी पड़ेगी ताकि मैं ज़्यादा टैक्स भर सकूँ और कर्ज में डूब जाऊँ । वैसे भी आज की दुनिया में नौकरी की सुरक्षा बची नहीं है । मैं यह जानता हूँ कि छोटे और सही आकार की फ़र्म कैसी होती है । मैं यह भी जानता हूँ कि आज के दौर में कॉलेज के स्नातकों को कम तनख्वाह मिलती है जबकि आपके जमाने में उन्हें ज़्यादा तनख्वाह मिला करती थी । डॉक्टरों को देखिए । वे अब उतना पैसा नहीं कमाते जितना पहले कभी कमाया करते थे । मैं जानता हूँ कि मैं रिटायरमेंट के लिए सामाजिक सुरक्षा या कंपनी पेंशन पर भरोसा नहीं कर सकता । अपने सवालों के मुझे नए जवाब चाहिए । "



Read  Book- Rich Dad Poor Dad Robert T Kiyosaki 

Hindi article by lono me



क्या आप रिच डैड पुअर डैड पूरी बुक फ्री पढ़ना चाहते हैं तो हमें कमेंट जरूर करें हम आपको पूरी बुक फ्री उपलब्ध करवाएंगे आपको फ्री बुक पढ़ने के लिए किसी और वेबसाइट पर नहीं मिलेगी
 lono me


इंग्लिश में लेटेस्ट न्यूज़ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
 News one




No comments:

Post a Comment