Rich dad poor dad Robert t Kiyosak part i- 6 lono me प्रस्तावना - Motivational quotes for success in life

Breaking

Comments system

Saturday, 29 February 2020

Rich dad poor dad Robert t Kiyosak part i- 6 lono me प्रस्तावना

रॉबर्ट कियोसकी की बुक रिच डैड पुअर डैड पार्ट - 6

Rich dad poor dad Robert t Kiyosak part i- 6 lono me प्रस्तावना
Lono.me 

प्रस्तावना भाग - 6


रॉबर्ट की सबसे बड़ी चिंता यह थी कि अमीरों और गरीबों के बीच फासला लगातार बढ़ता जा रहा है । ऐसा न सिर्फ अमेरिका में हो रहा है , बल्कि पूरी दुनिया में हो रहा है । रॉबर्ट स्वशिक्षित और स्वनिर्मित व्यवसायी थे । ये दुनिया भर में निवेश कर चुके थे और 47 वर्ष की उम्र में रिटायर होने में सफल हो गए थे । वे काम इसलिए कर रहे थे क्योंकि उन्हें भी वही चिंता यी , जो मुझे अपने बच्चों को लेकर सता रही थी । वे जानते हैं कि दुनिया बदल चुकी है परंतु इसके बावजूद शिक्षा पतियों बिलकुल भी नहीं बदली थीं ।




रॉबर्ट के अनुसार , बच्चे सालों तक दकियानूसी शिक्षा पद्धति में अपना समय गुजारते हैं और ऐसे विषय पढ़ते हैं जो उनके जीवन में कभी भी , कहीं भी काम नहीं आने वाले हैं और वे ऐसी दुनिया के लिए तैयारी करते हैं जिसका अब नामोनिशान भी नहीं बचा है । " " आज , आप किसी भी बच्चे को जो सबसे खतरनाक सलाह दे सकते हैं वह यह है , ' स्कूल जाओ , अच्छे नंबर लाओ और कोई सुरक्षित नौकरी दूँदो । " उन्होंने कहा , " यह पुरानी सलाह है और यह खराब सलाह है । अगर आप यह देख सकते हैं कि एशिया , यूरोप , दक्षिण अमेरिका में क्या हो रहा है तो आप भी उतनी ही चिंतित होंगी जितना कि में । रॉवर्ट के अनुसार यह पुरी सलाह है , " क्योंकि अगर आप चाहते हैं कि आपके बच्चे का भविष्य आर्थिक रूप से सुरक्षित हो , तो आप पुराने नियमों के सहारे नए खेल को नहीं खेल सकते । यह बहुत खतरनाक होगा । "





मैंने उससे पूछा कि “ पुराने नियमों से उसका क्या मतलब है ? " मेरी तरह के लोग अलग तरह के नियमों से खेलते हैं और आपकी तरह के लोग पुराने नियमों की लीक पर ही चलते रहते हैं , " उन्होंने कहा , " क्या होता है जब कोई कॉरपोरेशन स्टाफ कम करने की घोषणा करता है ? " " लोगों को नौकरी से निकाल दिया जाता है । परिवार तबाह हो जाते हैं । बेरोजगारी बढ़ जाती है । " " ही , परंतु कंपनी पर इसका क्या असर पड़ता है , खासकर जब यह कंपनी स्टॉक एक्सचेंज में दर्ज हो ? " " जब स्टाफ कम करने की घोषणा होती है तो स्टॉक की कीमत बढ़ जाती है , " मैने कहा । " जब कंपनी तनख्वाह का खर्च कम करती है तो बाज़ार इस बात को पसंद करता है , ऐसा चाहे स्टाफ कम करके किया जाए या फिर कंप्यूटर के माध्यम से किया जाए । " उन्होंने कहा , " आप ठीक कह रही हैं । और जब स्टॉक की कीमतें बढ़ती हैं तो मेरी तरह के लोग यानी जिनके पास उस कंपनी के शेयर होते हैं वे ज़्यादा अमीर हो जाते हैं ।



 अलग तरह के नियमों से मेरा यही आशय था । कर्मचारी हारते हैं ; मालिक और निवेशक जीतते हैं । " रॉबर्ट कर्मचारी और मालिक के बीच के फ़र्क को समझा रहे थे । यह फर्क था अपनी किस्मत पर खुद अपना नियंत्रण होना या फिर अपनी किस्मत पर किसी दूसरे का नियंत्रण होना । " परंतु ज़्यादातर लोग यह नहीं समझ पाते हैं कि ऐसा क्यों होता है . " मैंने कहा , " उन्हें लगता है कि यह ठीक नहीं है । " उसका जवाब था , " इसीलिए तो बच्चों से यह कहना मूर्खता है , ' अच्छी शिक्षा प्राप्त करो । ' यह सोचना मूर्खता है कि स्कूलों में दी जा रही शिक्षा से बच्चे उस दुनिया का सामना करने के लिए तैयार हो जाएँगे जिसमें वे कॉलेज के बाद पहुंचने वाले हैं । हर बच्चे को ज्यादा शिक्षा की जरूरत है । एक अलग तरह की शिक्षा की । और उन्हें नए नियमों को जानने की भी जरूरत है । अलग तरह के नियमों को जानने की । " " धन के कुछ नियम होते हैं जिनसे अमीर लोग खेलते हैं और धन के कुछ और नियम होते हैं जिनसे बाकी 95 फीसदी लोग खेलते हैं । और ये 95 फीसदी लोग उन नियमों को अपने घर और स्कूल में सीखते हैं ।




 इसीलिए आजकल किसी बच्चे से यह कहना खतरनाक है , ' मन लगाकर पढ़ो और अच्छी नौकरी खोजो । ' आज बच्चों को अलग तरह की शिक्षा की जरूरत है और आज की शिक्षा नीति उन्हें कुछ मूलभूत बातें नहीं सिखा पा रही है । इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि क्लासरूम में कितने कंप्यूटर रखे हैं या स्कूल कितना पैसा खर्च कर रहे हैं । जब शिक्षा नीति में वह विषय ही नहीं है , तो उसे किस तरह पढ़ाया जा सकता है । "




रिच डैड पुअर डैड बेस्ट मोटिवेशनल बुक in hindi
Lono me


No comments:

Post a Comment